Bhojpuri udasi shayari


मुहब्बत ऊ बारिश हअ ..
जेके छूवे के कोशिश में ..
हथवा त गीला हो जाय़ेला .. !
आऊर अखिय़ो नम रहेला..
बाकि हाथ फिर भी खालीय़े रहेला.. !!


'बेशक' हमार जिनगी तहरा साथ क मोहताज नईखे, !
पर ई 'दिल' मे तोहार एहसास के तलबगार आज भी बा.. !!


चलअ अच्छा भइल अब सुकून से त सुत सकेली हम..!
बड़ी मुश्किल से आज दिल क मकांन खाली मिलल बा..!!


ऊ काजल रहे-हमरे आँख क..
आंसू मे घुल के बह आईल..!
आऊर ठहर गईल रहे हमरा हथेली पर..
जइसे ऎगो बूंद करीया मोती लेखा..!!


दिल क ज़िद बाड़ तु...!
ना त ई आँख केतने हसीन चेहरा देखले बा !!



रूह से कह द रूवावल छोर दे !
या बदन क आशियाना छोर दे !!


तु त चली गऽइलु भुलाइ गऽइलुँ
आखियाँ मे प्यार के सुरमा लगाइ गऽइलु
हम त झुराइ के काट हो गऽइनी
तु कऽउनो बगिया मे जा के फुलाइ जऽइबु



केतना भीड़ बा तहरा दिल में कइसे रहब ओहमा ?
हमरा भीड़ में रहे क आदत भी त नइखे !!..


मोहबत पर य़ेतना यकिन ना रहे जेतना तहरा पर बा ,
बस येतना खयाल रखिह अगर वफा ना सकेल त धोखा भी मत दीह !!..



हर कोई पूछत ता इ आँख में नमी काहे बा
कइसे कही की इ आँख में आसू के वजह रउवे बानी !
जियत बानी जिंदगी 'लेकिन'
हमर जीये के वजह भी रउवे बानी....!!



जमाना देखे कहा देला सूरत आसानी से
बस देख लेबे के लोग कही देला प्यार आसानी से !
वैसे ता ख्वाब आवेला जेकरा वजह से रात में
दिन में उनके वजह से ही भर जाला हमार आंख इ पानी से !!..


निशा जब नीला आँचारा मे सबका समावेले,
त अईसे मे जाने काहे रौरे याद आवेले !..


कइसे खतम कर सकीला उनका से आपन रिसता,
जिनका बारे मे बस सोचते ही सारा दुनिय़ा भूल जाइला हम...


केहु के प्यार मे पियल ज़हरियो नीक़ लागेला,
अंज़ोरिया त अंज़ोरिये ह अन्हरिओ नीक लागेला !..


गुलो के लाख टटोलनी पर गुलबदन ना मिलल
चमन मे जिंदगी गुजरनी बाकी चमन ना मिलल !
वफ़ा के राह मे जेवन कुछ मिल गनीमत बा
केतना त ऐसे चल गैइले ,जिनके कफ़न ना मिलल !!



ऊ जमीं नइखे आसमां नइखे
अजी अब मनवा कईसे लागो
उ हीत नइखे उ मीत नइखे
सभे अझुराईले बा एहिजा त
मन भुलाइल बा परीत जईसे !!..



सब त रूठ ले रहल हमसे , एगो तू हु रूठ गईला त कउनो बात नाही !
हम त कबसे रहली एकेलै , जे तुहूँ छोड़ गईला त कउनो बात नाही !!



दिल के हमरा आज ई अहसास हो गईल,
केहू आपन लोगवा के भीड़ में भुला गईल.!
कईसे उनका के अपना पास बोलाई,
रह-रह के ऊ हमरा से आउरी दूर ओ गईल.!!


पलक में आँशु के सजावल ना गईल,
उनको के भी दिल के हाल बतावल ना गईल !
जख्म से चूर चूर रहुये ई कलेजा हमार,
बाकिर एगो जख्म उनका से देखावल ना गईल. !!...


ख़ुशी से हमेशा दूर रखले बा जिन्दगी हमरा के,
दुःख के समुन्द्र में डूब रहल बानी हम !
अंखिया से आँशु बहा रहल बानी हम,
हर गम के अकेले ही सह रहल बानी हम !!....



आज सोचनी की तोहरा के सपना कही,
पर सपना त सच होखेला ना.
तू ख्याले में रोज आईल कर,
लोग कहेला की ख्याल कबो बदलेला ना...






नींद छुपेले जहाँ पे ,
ख्वाब सजेले जहाँ पे !
खबर ई आईल बा उहां से ,
कि केहू तोहरे जइसन नाहीं !!..



हर कोई पूछत ता इ आँख में नमी काहे बा
कइसे कही की इ आँख में आसू के वजह रउवे बानी !
जियत बानी जिंदगी 'लेकिन'
हमर जीये के वजह भी रउवे बानी....!!




जमाना देखे कहा देला सूरत आसानी से
बस देख लेबे के लोग कही देला प्यार आसानी से !
वैसे ता ख्वाब आवेला जेकरा वजह से रात में
दिन में उनके वजह से ही भर जाला हमार आंख इ पानी से !!..



निशा जब नीला आँचारा मे सबका समावेले,
त अईसे मे जाने काहे रौरे याद आवेले !..




कइसे खतम कर सकीला उनका से आपन रिसता,
जिनका बारे मे बस सोचते ही सारा दुनिय़ा भूल जाइला हम...



केहु के प्यार मे पियल ज़हरियो नीक़ लागेला,
अंज़ोरिया त अंज़ोरिये ह अन्हरिओ नीक लागेला !..



गुलो के लाख टटोलनी पर गुलबदन ना मिलल
चमन मे जिंदगी गुजरनी बाकी चमन ना मिलल !
वफ़ा के राह मे जेवन कुछ मिल गनीमत बा
केतना त ऐसे चल गैइले ,जिनके कफ़न ना मिलल !!



ऊ जमीं नइखे आसमां नइखे
अजी अब मनवा कईसे लागो
उ हीत नइखे उ मीत नइखे
सभे अझुराईले बा एहिजा त
मन भुलाइल बा परीत जईसे !!..




सब त रूठ ले रहल हमसे , एगो तू हु रूठ गईला त कउनो बात नाही !
हम त कबसे रहली एकेलै , जे तुहूँ छोड़ गईला त कउनो बात नाही !!



दिल के हमरा आज ई अहसास हो गईल,
केहू आपन लोगवा के भीड़ में भुला गईल.!
कईसे उनका के अपना पास बोलाई,
रह-रह के ऊ हमरा से आउरी दूर ओ गईल.!!



पलक में आँशु के सजावल ना गईल,
उनको के भी दिल के हाल बतावल ना गईल !
जख्म से चूर चूर रहुये ई कलेजा हमार,
बाकिर एगो जख्म उनका से देखावल ना गईल. !!...



ख़ुशी से हमेशा दूर रखले बा जिन्दगी हमरा के,
दुःख के समुन्द्र में डूब रहल बानी हम !
अंखिया से आँशु बहा रहल बानी हम,
हर गम के अकेले ही सह रहल बानी हम !!....



आज सोचनी की तोहरा के सपना कही,
पर सपना त सच होखेला ना.
तू ख्याले में रोज आईल कर,
लोग कहेला की ख्याल कबो बदलेला ना...



दूर त बहुत बाडू पर इतना जान लीहा,
लगे रहिके कौनो रिश्ता बहुत ख़ास ना होला !
तू त हमारे दिल के इतना करीब बाडू,
कि दूर होवे क एहसास ना होला !!..



हर मर्ज के दावा प्यार ना ह,
हर प्यार के अंत तकरार ना ह,
शायरी के भाव का बा
इ समझल काम आसाऩ ना ह...




अब सोचे के पड़ी की केकरा से दिल लगाई,
ई दुनिओ त इहे सोचत बा.
कुछ पूरान यादन के दिल से निकले के खातिर,
आज दिल फेरु से धडकत बा...



आँख में जमुना जी क पानी ढल रहल बा
तोहरे ही आग से दिल आज जल रहल बा
जे केहू कभी आपन रहल उ आज एक अनजान हो गईल बा
जे अब मिल ना सकेला आज एक नई पहचान हो गईल बा..




ऐ घाम के आग, पहीले त बर्दाश ना होत रहे,
अब घाम के भी, दिली-आग जरावे लागल बा।
बिगहा पार देखल भी, मुश्कील हो गईल तब से,
जब से मनवा केहु के, दर्शन करावे लगल बा।।...



दिल के बेकरारी बोलावत बा आजा
आज ई तनहाई सतावत बा आजा
तहरे बिना सुन बा मनवा के बगिया
आके तू एह के महका द ए रानी...



सोचतानी कइसे उनुके भुलायेब हम,
अब अपना दिल के कैसे समझायिब हम,
ऊ ता बस छोड़ के चल देहली ,
अब जीए खातिर कवन उपाय लगायिब हम ...



 

Latest Bhojpuri Lyrics with Video in Hindi Browse and Download links info. © 2015 - Designed by Raj, Plugins By Desi katta